आधुनिक शिक्षा का महत्व और उनकी समस्याएं क्यों होती हैं आवश्यकता पड़ने पर ?

शिक्षा का महत्व  के बारे में जब हम जानते यह समझने की कोशिश करते हैं तो पता चलता है कि पुराने काल से लेकर आज के आधुनिक काल तक शिक्षा का महत्व उतना ही है जितना उस समय था और आगे आने वाली पीढ़ियों तक रहेगा

तो आज हम शिक्षा के महत्व के बारे में कुछ ऐसी जानकारियों को हासिल करेंगे जिससे विद्यार्थियों को अपने निबंध और आने वाले शिक्षा के महत्व के बारे में समझ सके और जान सके की शिक्षा का महत्व उनके पूरे जीवन काल में कितना जरूरी है

किसी महापुरुष ने कहा था कि शिक्षा का महत्व इतना जरूरी है  मान लीजिए शिक्षा की ऐसी संपत्ति है जिसे कोई चुरा नहीं सकती ना ही आपसे कोई छीन सकता है इसलिए शिक्षा को हमेशा ही सभी संपत्तियों से ऊंचा पद दिया गया है 

shiksha-ka-mahatva
shiksha-ka-mahatva

आधुनिक शिक्षा का महत्व इतना है कि जैसे मान लीजिए दिन प्रतिदिन तेजी से बढ़ता ही जा रहा है अगर हम सुचारू रूप से अपने अपनी शिक्षा का बदलाव नहीं करते हैं तो हम आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का पूर्ण रूप से इस्तेमाल भी नहीं कर पाएंगे

क्योंकि बिना बदलाव के हम आधुनिक युग में अपनी कार्यशैली को नहीं बदल सकते इसके लिए हमें आपने ग्रुप में जिस भी तकनीक कुशलता की आवश्यकता है हमें उसे पूर्ण रूप से सीखना और उसे अपनी शिक्षा का महत्वपूर्ण अंग बनाना होगा तभी हम इस आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का प्रमुख रूप से इस्तेमाल या उपयोग में ला सकते हैं

जैसा कि आप देख लीजिए आज के आधुनिक युग के मनुष्य को अपने जीवन में जीने के लिए या अपने अच्छे स्थल को जीवन में पति पालन करने के लिए और बढ़ाने के लिए और अपने शिक्षा के स्तर को उठाने के लिए जिस जिस चीजों की जरूरत है उसे अपनी कार्यशैली में डालना ही पड़ेगा क्योंकि आज की शिक्षा जीवन को बेहतर बनाने की संभावनाओं से जुड़ी तक की है

यह भी पढ़ें : भारत के 10 पड़ोसी देशों के नाम 2021 में

यह भी पढ़ें : क्या आपको बिहार के नए जिलों के नाम पता हैं ?

यह भी पढ़ें : 370 हटने के बाद भारत में कुल कितने राज्य हैं ?

ना की कार्यशैली को बढ़ाना और डालना ही होगा इसके साथ-साथ आज के आधुनिक युग में शिक्षा के नए रूप में माने जैसे औद्योगिक करण नई तकनीकी कुशलता के युग में ज्ञान के रूप में देना ही होगा अगर हम अपने नई तकनीक कुशलता को नहीं बढ़ावा देते हैं या बन नहीं देते हैं

इसके ना करने पर हम अपने नए आधुनिक युग में व्यवहारिक ज्ञान का प्रकाश नहीं कर पाएंगे इसलिए हमें अपने शिक्षा के साथ-साथ समय में जो आगे बढ़ रहा है और इस आधुनिक युग में जिन चीजों की और कुशलता की आवश्यकता है

हमें अपने बच्चे हैं छात्र के जीवन में उन्हें प्रमुख रूप से बनाना ही होगा क्योंकि आप सभी को पता ही है किस आधुनिक युग में विकसित होने के लिए पूर्ण रूप से सभी का मशीनीकरण या सभी चीजों को मशीन के द्वारा ही किया जा रहा है

और इसी कारण वर्ग बेरोजगार की प्रति हो रही है अगर हम अपने कार्य में या कार्यशैली में परिपूर्ण रूप से आत्मनिर्भर बनकर और अपने कार्यशैली को बढ़ावा नहीं देंगे या अपने शिक्षकों नहीं बनाएंगे तब तक आप इस मशीनीकरण में पीछे रह जाएंगे और इसी कारणवश आज के कई युवा बेरोजगार है

शिक्षा का महत्व और उनकी समस्याएं पर आधुनिक दौर

आज हम छात्राओं और विद्यार्थियों के लिए कुछ ऐसे भाषा में शिक्षा के महत्व पर कुछ भाषणों का प्रदान कर रहे हैं ताकि उनमें कोई शिक्षा के महत्व के बारे में जो भी जरूरत आवश्यकता है और  ज्ञान है वह विद्यार्थियों को पूरी तरह मिले शिक्षा के महत्व पर जब भाषण की बात आती है

तब उन भाषणों में कब कहां किस तरह किस जगह अपने भाषण को सही रूप देकर बोलना यह बताना है उसकी एक झलक हम अपने इस लेख द्वारा सभी विद्यार्थियों को बताएंगे

अब शिक्षा के महत्व पर भाषण देने से पहले हम अपने अध्यापक और अभिभावकों और अपने सभी प्यारे मित्रों को संबोधित करेंगे संबोधित करते ही हम उनका अनुमोदन करेंगे और शिक्षा के महत्व पर भाषण देना शुरू करेंगे

शिक्षा का महत्व पर भाषण कुछ इस प्रकार नीचे देने की शुरुआत करेंगे इसका एक उदाहरण नीचे दिया गया है

आदरणीय अध्यापक और अध्यापिका और मेरे अभिभावकों और मेरे प्यारे सभी प्रिय मित्र गण मेरा सुप्रभात आप सभी को आज में शिक्षा के महत्व के ऊपर भाषण देना चाहता हूं या चाहती हूं उसके बारे में यहां उपस्थित आप सभी लोग जानते ही हैं कि शिक्षा सभी के जीवन में वह महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है और निभाते आ रहा है

जिसके द्वारा एक इंसान सफलता की ओर अपने पूरे जीवनकाल को स्वस्थ शरीर और भोजन की आवश्यकता के साथ-साथ उसकी भूमिका भी अन्य रूप से शिक्षा के द्वारा ग्रहण कर रहे हैं 

और जिस तरह मानव जीवन में  स्वस्थ शरीर और स्वस्थ भोजन का होना आवश्यक है उसी प्रकार शिक्षा का भी होना आवश्यक है यहां तक शिक्षा एक अच्छे और सुचारू रूप से हो तो और भी ज्यादा अच्छा है क्योंकि शिक्षा एक ऐसा बेहतरीन चीज है

जिसके द्वारा आप अपनी शारीरिक सामाजिक और मानसिक रूप से किस तरह लोगों के ऊपर बेहतरीन जीवन जीने का एहसास में काम कराती है 

अच्छी शिक्षा की प्रकृति कई रूप से और कई रचनाओं के द्वारा हमेशा हमेशा आपके भविष्य का निर्माण करती है और कराते आ रहे हैं हमें कुछ क्षेत्रों में ज्ञान प्रदान करके या फिर उस क्षेत्र में आर्थिक रूप से अगर ज्ञान सही रूप से लिया जाए तो हमें उस क्षेत्र के सभी चीजों का ज्ञात होता है और इसके साथ ही हमारा उस क्षेत्र के प्रति आत्मविश्वास भी भरता है 

क्योंकि किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए क्षेत्र की पूर्ण शिक्षा का होना अति आवश्यक है कहा जाता है कि अधूरा ज्ञान जहर के समान होता है क्योंकि अधूरी ज्ञान से किसी को लाभ हो या ना हो पर हानि जरूर पहुंचते हैं

आप जितना अधिक अपने जीवन में शिक्षा का महत्व देंगे आपको शिक्षा उतने ही लोगों के सामने आप की महत्वता को सपोर्ट करेगा अच्छा पढ़ा लिखा शिक्षित व्यक्ति किसी भी समाज और संगठन और संस्था में अपनी प्रतिष्ठा को विकसित कर लेता है ना कि प्रतिष्ठा की बात है यह भी है

कि किसी भी संगठन संस्था में नौकरी प्राप्त करना हो या उसे उस समाजिक संबंधी से अपना कद ऊंचा करना हो शिक्षित रूप में तो वह शिक्षा उसे उस स्थान तक वह मूल रूप से तेज आती है

अच्छी शिक्षा प्राप्त करना है सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है अच्छी शिक्षा प्राप्त करने का यह उद्देश्य है कि आप पहले अपनी देश के एक अच्छे नागरिक बने और अपने व्यक्तित्व और पेशेवर जीवन में एक ऐसे व्यक्ति बने जो सभी सफलता से पर पूर्ण रूप से पूर्ण हो क्योंकि बिना अच्छी शिक्षा के वह इंसान हमेशा अधूरा है

क्योंकि शिक्षा हमें वह सोचने और समझने के लायक बनाता है जिसके द्वारा आप किसी भी या फिर इस प्रतियोगी पूरे संसार में अपने अनिवार्यता बना सके और अपने सभी चीजों को पूर्ण रूप से समझ सके क्योंकि जहां शिक्षा होती है वहां सभी रूप से वह इंसान संक्षेप होता है

और एक अच्छी शिक्षा से आप किसी भी गलत काम को छोड़ सकते हैं और गलत आदतों को बदल सकते हैं शिक्षा एक व्यक्ति की बाहर से लेकर अंदर तक की सभी बदलावों को बदल सकता है यह एक ऐसा  बाहर की और आंतरिक प्रदान करने वाला सबसे महत्वपूर्ण शिक्षा एक ऐसी अधिकार है

इसका मौलिक रूप सभी के लिए होना चाहिए यह शिक्षा आपको सभी जगह आपकी प्रतिष्ठा को बनाने में मदद करता है इसलिए सही शिक्षा का होना मानव जीवन में उतना ही जरूरी है जितना कि रोटी कपड़ा और मकान है 

शिक्षा का महत्व पर निबंध 150 शब्द

शिक्षा हमारे जीवन का महत्वपूर्ण आधार है क्योंकि किसी व्यक्ति के उसके शिक्षा के बिना वह कुछ भी काम करना या उस काम को पूर्ण करना अधूरा है क्योंकि शिक्षा से हम उन सारी मुसीबत परेशानियों को हल कर सकते हैं क्योंकि शिक्षा के आधार से हम अपनी परेशानियों को आसानी से हल कर सकते हैं क्योंकि शिक्षा का महत्व उसको ही पता है

जो शिक्षा के बारे में जानना चाहता है शिक्षा के बिना आप अपना विकास साथ ही अपने परिवार और अपने देश के विकास नहीं कर सकते शिक्षा के बिना आप अपने किसी भी कार्य को क्योंकि शिक्षा ही आपको आपके कार्य में सफल बनाने में मदद करता है

इसलिए मनुष्य को अपने शिक्षा के ऊपर अधिक ध्यान देना चाहिए और और साथ ही अच्छी शिक्षा क्योंकि अधूरा ज्ञान ही मनुष्य को उसके काम में बाधा दिलवा दे हैं शिक्षा का कितना महत्व है इससे आपको साथ ही पता चलता होगा कि हमारी कई सरकारें अपनी शिक्षा नीतियों कई सारे बदलाव लाने की कोशिशें कर रही है और वह बदला है

प्रतिवर्ष कुछ ना कुछ अपने रुख में बदलाव आ ही रहे हैं इसका यही उदाहरण है कि शिक्षा का बदलाव भी हो ना उतना ही आवश्यक है जितना किसी मनुष्य के उसके जीवन काल में शिक्षा का होना क्योंकि शिक्षा नीति पर अगर बदलाव ना हो तो ना हो तो बहुत ही पुरानी पद्धतियों के द्वारा है उन सभी शिक्षकों का विकास किया जाता है

और पुरानी शिक्षा नीतियों से किसी भी नए शिक्षाओं का या उसके ज्ञान का विकास नहीं हो पाता क्योंकि एक ही शिक्षा के रूप में प्रदान होने से नई शिक्षा नीति के बारे में पता नहीं चलता इसलिए शिक्षा की नीतियों में थोड़ा बदलाव होना आवश्यक है शिक्षा का इतना महत्व है

यह भी पढ़ें : भारत के 10 पड़ोसी देशों के नाम 2021 में

यह भी पढ़ें : क्या आपको बिहार के नए जिलों के नाम पता हैं ?

यह भी पढ़ें : 370 हटने के बाद भारत में कुल कितने राज्य हैं ?

कि माननीय कि वह एक ऐसा वस्तु समान या हथियार ही मान लीजिए जिस प्रकार एक वस्तु के बिना आप किसी चीज का या किसी भी कार्य को नहीं कर सकते इस तरह एक अच्छी शिक्षा के बिना आप अपने समाज परिवार और देश का भी विकास नहीं कर सकते शिक्षा का महत्व इतना ही है कि मानो कि जैसे हम हर वह जंग जीत सकते हैं

जो हमारे लिए एक वह अधिकार और आधार बन सकता है जिसके आधार के द्वारा हम हर मानव के जीवन काल में उसको उसकी पूरी रूप से एक नया और पूर्ण रूप से एक ढांचे में बदल कर रख सकते हैं ताकि वह अपने ताकि वह अपने जीवन में आने वाली सभी समस्याओं का निवारण कर सके इसलिए शिक्षा का महत्व देना जरूरी है

आप सभी को लगता होगा कि शिक्षा का महत्व इतना ही क्यों जरूरी है क्योंकि बहुत सारे ऐसी जगह पर देखा क्या है जहां कई लोग बिना शिक्षा के भी बहुत कुछ कर रहे हैं परंतु किसी भी कार्य करने के लिए थोड़ी बहुत तो उससे कार्य के संबंधित उच्च शिक्षा को ग्रहण करना अनिवार्य है क्योंकि शिक्षा का महत्व उस कार्य के संबंधित इसलिए है

क्योंकि आप भविष्य में जो भी उस कार्य से संबंधित कुछ करना चाहेंगे कि एक पूर्ण रूप से उच्च शिक्षा से संबंधित आपको वह कार्य करने पर यही शिक्षा आपको मदद करेगी शिक्षा एक ऐसा माध्यम है जिसके बिना हम जीवन के कोई भी जंग नहीं देख सकते बिना शिक्षा के आप अपना अच्छा मार्गदर्शन भी नहीं कर सकते हैं

शिक्षा की आवश्यकता एवं महत्व

हमारे जीवन में शिक्षा के बहुत सारी आवश्यकता है और उनके महत्व शिक्षा को ज्ञान के रूप में तकनीकी के रूप में साक्षरता और दक्षता और विद्या इत्यादि को प्राप्त करने वाली एक ऐसी क्रिया है इसे हम अपना पूरे जीवन काल में शिक्षा की आवश्यकता और महत्व को पहचानते हैं

अर्थात माननीय जी हमें शिक्षा का उचित आसन या तकनीक दे दक्षता विद्या वाली कार्य को प्राप्त करने के लिए हमारे शिक्षा ही महत्वपूर्ण होती है या जैसा आवश्यक होती है तथा इन सब कारणों की वजह से ही हमें अपने कार्य में कुशलता और भाग्यशाली रूप से सफलता पाने के लिए शिक्षा अति आवश्यक होती है

शिक्षा ना हो तो हम ना ही अपने नैतिक जीवन मानसिक गतिविधि को सिलसिला और व्यापार व्यवसाय में और समाज की अगली पीढ़ी के लिए और नीचे तेरी के लिए दोनों तीनों के लिए अपने अपने ज्ञान का अक्षत करना अति आवश्यक है के बिना ना ही आप कुछ कर सकते हैं

ना ही आपसे कुछ उपाय जो व्यक्ति अपने समाज में एक विशेष पद या भूमिका निभाना चाहता है उसे शिक्षा के महत्व को समझना ही पड़ेगा समाज की निरंतरता को बनाए रखने के लिए शिक्षा एक महत्वपूर्ण उपाय एक बच्चा अपने समाज के सभी क्रियाओं को और नियमों को व्यवस्थित रूप से प्रतिपादन करने के लिए शिक्षा को अधिक मूल्यवान समझना चाहिए अगर वह अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए या अपने लिए कुछ करना चाहता है

तो उसे शिक्षा के प्रति पूर्ण रूप से अपने ऊपर बांधना होगा या फिर समाज के विशेष रूप से इतिहास में एक मुख्य रुप से अपनाना होगा ही हमारे जीवन में अगर शिक्षा का महत्व ना हो तो कैसे ही अब अगली पीढ़ी को यह बता पाएंगे कि शिक्षा का महत्व क्या है क्या है

सबसे पहले अगर देखा जाए तो शिक्षा वह एक चीज है पढ़ने लिखने में लोगों या विद्यार्थी की क्षमता को बढ़ाती है अधिकांश जानकारी देखा जाए तो लिखित रूप में होती अगर आपको लिखने या पढ़ने में ही समस्या हो तो आप कैसे कहीं किसी अपनी समस्या को कैसे दूर करेंगे

इन शिक्षा की आप अपने जीवन काल में या फिर पूर्ण रूप से किसी भी समय में आप उन समस्या गए गतिविधियों को कैसे दूर करेंगे साथी आजकल यह देखा गया है कि कितनी कोशिश करने के बाद भी कई जगहों पर रोजगार की समस्या बढ़ती जा रही है शिक्षा के होते हुए भी फिर भी जो शिक्षित है

उनको उनके शिक्षा के अनुसार रोजगार नहीं मिला क्योंकि आजकल के युग में शिक्षित के साथ परिपूर्ण रूप से तत्वों की जगह पर या किसी कार्य स्थल पर उस जगह की पूर्ण तकनीकी कुशलता नहीं मिल पाती और ना ही विद्यार्थी ले पा रहे हैं इसलिए

शिक्षा को अपने जीवन में पूर्ण रूप से सुचारू रूप से सभी के साथ संचार के अन्य साधनों में भी सुधार करनी चाहिए शिक्षा व्यक्ति को को बेहतर बनाने के लिए प्रतियोगी रूप से उपयोग करता बनाती है आवश्यक तकनीकी कुशलता ना होने के कारण ही हमारी शिक्षा आधुनिक युग में प्रमुख रूप से इतनी कुशलता नहीं है

यह भी पढ़ें : भारत के 10 पड़ोसी देशों के नाम 2021 में

यह भी पढ़ें : क्या आपको बिहार के नए जिलों के नाम पता हैं ?

यह भी पढ़ें : 370 हटने के बाद भारत में कुल कितने राज्य हैं ?

शिक्षा का महत्व पीडीएफ (pdf)

शिक्षा का महत्व  के बारे में जब हम जानते यह समझने की कोशिश करते हैं तो पता चलता है कि पुराने काल से लेकर आज के आधुनिक काल तक शिक्षा का महत्व उतना ही है जितना उस समय था और आगे आने वाली पीढ़ियों तक रहेगा

तो आज हम शिक्षा के महत्व के बारे में कुछ ऐसी जानकारियों को हासिल करेंगे जिससे विद्यार्थियों को अपने निबंध और आने वाले शिक्षा के महत्व के बारे में समझ सके और जान सके की शिक्षा का महत्व उनके पूरे जीवन काल में कितना जरूरी है

किसी महापुरुष ने कहा था कि शिक्षा का महत्व इतना जरूरी है  मान लीजिए शिक्षा की ऐसी संपत्ति है जिसे कोई चुरा नहीं सकती ना ही आपसे कोई छीन सकता है इसलिए शिक्षा को हमेशा ही सभी संपत्तियों से ऊंचा पद दिया गया है 

पुराने युग से लेकर अभी तक कई स्थानों में स्त्रियों के लिए शिक्षा का प्रमाण देखा जाए तो कम है पर यह भी समय के साथ बदलाव के रूपों में बदल रही है जैसा कि आपको पता है कि कल क्षेत्रों में लड़कों से ज्यादा आजकल लड़कियों का योगदान है

और उनको कई क्षेत्रों में अपनी कार्यशैली को बढ़ावा देने के लिए आगे किया जा रहा है ताकि वह भी लड़कों के साथ कदम मिलाकर अपने कार्य शैली में अपने आप को परिपूर्ण रूप से आगे ले आए और देश और समाज के प्रतिष्ठित और अपनी प्रतिष्ठा को सुचारू रूप से बड़ा पाएं और अपने कार्य में सफल हो पाएं लेकिन कई स्थानों में यह भी देखा गया है

कि उनके माता-पिता लड़कों को ज्यादा ही बढ़ावा देते हैं पर अपनी बेटियों को नहीं यह बात हमें अपने समाज में सभी वर्गों के रूप से समझाना चाहिए उन माता-पिता ओं को की शिक्षा का अधिकार सभी को समान है और सब का महत्व अलग अलग है

इसलिए हमें अपनी बेटियों को भी आगे बढ़ाकर शिक्षा का महत्व के बारे में बताना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा हो सके तो उन्हें प्रोत्साहन देना चाहिए ताकि इस समाज में वह भी अपनी कार्यशैली में आगे बढ़ सके और साथी हमारे देश का नाम सभी स्थानों में ऊंचा कर सकें

अगर हमें समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना है तो समाज में शिक्षा का महत्व उतना ही महत्वपूर्ण है जैसे हम अपने भोजन और पानी और कपड़ों का ध्यान रखते हैं उसी तरह हमें अपने शिक्षा और ज्ञान को महत्वपूर्ण बनाना ही होगा इसलिए कभी-कभी कई लोगों के द्वारा यह भी कहा जाता है

शिक्षा एक मानव जीवन में या मानव जीवन के काल में एक महत्वपूर्ण है जिसके बिना इंसान या फिर मनुष्य माननी चाहिए जिससे मनुष्य में ज्ञान का प्रचार होता है या फिर प्रसार होता है मनुष्य की बुद्धि का विकास करने के लिए उसे शिक्षा मति पूर्ण ही होना होगा और उसे संपूर्ण रूप से शिक्षा के प्रति एकत्रित होकर ध्यान पूर्वक ध्यान देना होगा

क्या मानव जीवन का वह महत्वपूर्ण पॉइंट है या फिर एक इकाई है जिसके कारण वह समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना बहुत ही मुश्किल है जीवन में अगर आपको कभी सफलता पाना है किसी कार्य में सफल हो ना हो या कुछ अलग करके समाज में प्रतिष्ठित बनानी हो तो हमें या फिर आपको जीवन में कभी ना कभी अपने कठिन समय में कई चुनौतियों का सामना करना ही पड़ सकता है

यह भी पढ़ें : भारत के 10 पड़ोसी देशों के नाम 2021 में

यह भी पढ़ें : क्या आपको बिहार के नए जिलों के नाम पता हैं ?

यह भी पढ़ें : 370 हटने के बाद भारत में कुल कितने राज्य हैं ?

आप कहीं भी जाएं कुछ भी करें या फिर आप किसी बड़े शहर में ही क्यों ना आपको आपकी शिक्षा और क्या है वहां आपको उस पद तक पहुंच जाएगी बिना शिक्षा के आप किसी प्रतिष्ठित जगह में बैठे नहीं सकते क्योंकि बिना शिक्षा आप वहां अपने कृष्ण वाणी किस ज्ञान को दर्शाइए कि आप उस प्रतिष्ठित जगह पर अपनी महत्वपूर्ण था दिखा पाए

लेकिन आपने कई गांव के क्षेत्रों में सोचा सुना ही होगा कि जो छोटी उम्र में ही शिक्षा को पूर्ण रूप से ना कर पाते या वंचित ही रह जाते हैं कहीं-कहीं तो यह भी देखा गया है हमारे भारतवर्ष के कई गांव क्षेत्र में के शिक्षक को महत्व बढ़ा देना यह देने के लिए सरकार कई सरकारी द्वारा बहुत से जागरूकता अभियान को हमेशा बनाया यह चलाया जाता है

पर समाज के सभी व्यक्तियों में समान भावना नहीं होती फिर भी सरकार द्वारा भावना लाती है और बिना और सरकार को यह भी पता है कि कि मैं शिक्षा के किसी भी समाज की प्रकृति नहीं सकती ना भावना ला सकती देश को विकास और प्रगति के रूप में बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक स्थान में भारत के सभी गांवों में शिक्षा का निर्माण करना पड़ेगा तभी शिक्षा का निर्माण हो पाएगा

आधुनिक शिक्षा का महत्व इतना है कि जैसे मान लीजिए दिन प्रतिदिन तेजी से बढ़ता ही जा रहा है अगर हम सुचारू रूप से अपने अपनी शिक्षा का बदलाव नहीं करते हैं तो हम आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का पूर्ण रूप से इस्तेमाल भी नहीं कर पाएंगे क्योंकि बिना बदलाव के हम आधुनिक युग में अपनी कार्यशैली को नहीं बदल सकते

इसके लिए हमें आपने ग्रुप में जिस भी तकनीक कुशलता की आवश्यकता है हमें उसे पूर्ण रूप से सीखना और उसे अपनी शिक्षा का महत्वपूर्ण अंग बनाना होगा तभी हम इस आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का प्रमुख रूप से इस्तेमाल या उपयोग में ला सकते हैं

जैसा कि आप देख लीजिए आज के आधुनिक युग के मनुष्य को अपने जीवन में जीने के लिए या अपने अच्छे स्थल को जीवन में पति पालन करने के लिए और बढ़ाने के लिए और अपने शिक्षा के स्तर को उठाने के लिए जिस जिस चीजों की जरूरत है

उसे अपनी कार्यशैली में डालना ही पड़ेगा क्योंकि आज की शिक्षा जीवन को बेहतर बनाने की संभावनाओं से जुड़ी तक की है ना की कार्यशैली को बढ़ाना और डालना ही होगा इसके साथ-साथ आज के आधुनिक युग में शिक्षा के नए रूप में माने जैसे औद्योगिक करण नई तकनीकी कुशलता के युग में ज्ञान के रूप में देना ही होगा अगर हम अपने नई तकनीक कुशलता को नहीं बढ़ावा देते हैं या बन नहीं देते हैं

इसके ना करने पर हम अपने नए आधुनिक युग में व्यवहारिक ज्ञान का प्रकाश नहीं कर पाएंगे इसलिए हमें अपने शिक्षा के साथ-साथ समय में जो आगे बढ़ रहा है और इस आधुनिक युग में जिन चीजों की और कुशलता की आवश्यकता है हमें अपने बच्चे हैं

छात्र के जीवन में उन्हें प्रमुख रूप से बनाना ही होगा क्योंकि आप सभी को पता ही है किस आधुनिक युग में विकसित होने के लिए पूर्ण रूप से सभी का मशीनीकरण या सभी चीजों को मशीन के द्वारा ही किया जा रहा है और इसी कारण वर्ग बेरोजगार की प्रति हो रही है

अगर हम अपने कार्य में या कार्यशैली में परिपूर्ण रूप से आत्मनिर्भर बनकर और अपने कार्यशैली को बढ़ावा नहीं देंगे या अपने शिक्षकों नहीं बनाएंगे तब तक आप इस मशीनीकरण में पीछे रह जाएंगे और इसी कारणवश आज के कई युवा बेरोजगार है

समाज में शिक्षा का महत्व

अगर हमें समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना है तो समाज में शिक्षा का महत्व उतना ही महत्वपूर्ण है जैसे हम अपने भोजन और पानी और कपड़ों का ध्यान रखते हैं उसी तरह हमें अपने शिक्षा और ज्ञान को महत्वपूर्ण बनाना ही होगा इसलिए कभी-कभी कई लोगों के द्वारा यह भी कहा जाता है

शिक्षा एक मानव जीवन में या मानव जीवन के काल में एक महत्वपूर्ण है जिसके बिना इंसान या फिर मनुष्य माननी चाहिए जिससे मनुष्य में ज्ञान का प्रचार होता है या फिर प्रसार होता है मनुष्य की बुद्धि का विकास करने के लिए उसे शिक्षा मति पूर्ण ही होना होगा

और उसे संपूर्ण रूप से शिक्षा के प्रति एकत्रित होकर ध्यान पूर्वक ध्यान देना होगा क्या मानव जीवन का वह महत्वपूर्ण पॉइंट है या फिर एक इकाई है जिसके कारण वह समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना बहुत ही मुश्किल है जीवन में अगर आपको कभी सफलता पाना है

किसी कार्य में सफल हो ना हो या कुछ अलग करके समाज में प्रतिष्ठित बनानी हो तो हमें या फिर आपको जीवन में कभी ना कभी अपने कठिन समय में कई चुनौतियों का सामना करना ही पड़ सकता है आप कहीं भी जाएं कुछ भी करें

या फिर आप किसी बड़े शहर में ही क्यों ना आपको आपकी शिक्षा और क्या है वहां आपको उस पद तक पहुंच जाएगी बिना शिक्षा के आप किसी प्रतिष्ठित जगह में बैठे नहीं सकते क्योंकि बिना शिक्षा आप वहां अपने कृष्ण वाणी किस ज्ञान को दर्शाइए कि आप उस प्रतिष्ठित जगह पर अपनी महत्वपूर्ण था दिखा पाए

लेकिन आपने कई गांव के क्षेत्रों में सोचा सुना ही होगा कि जो छोटी उम्र में ही शिक्षा को पूर्ण रूप से ना कर पाते या वंचित ही रह जाते हैं कहीं-कहीं तो यह भी देखा गया है हमारे भारतवर्ष के कई गांव क्षेत्र में के शिक्षक को महत्व बढ़ा देना यह देने के लिए सरकार कई सरकारी द्वारा बहुत से जागरूकता अभियान को हमेशा बनाया यह चलाया जाता है

पर समाज के सभी व्यक्तियों में समान भावना नहीं होती फिर भी सरकार द्वारा भावना लाती है और बिना और सरकार को यह भी पता है कि कि मैं शिक्षा के किसी भी समाज की प्रकृति नहीं सकती ना भावना ला सकती देश को विकास और प्रगति के रूप में बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक स्थान में भारत के सभी गांवों में शिक्षा का निर्माण करना पड़ेगा तभी शिक्षा का निर्माण हो पाएगा

हमारे जीवन में शिक्षा का महत्व

हमारे जीवन में अगर शिक्षा का महत्व ना हो तो कैसे ही अब अगली पीढ़ी को यह बता पाएंगे कि शिक्षा का महत्व क्या है क्या है सबसे पहले अगर देखा जाए तो शिक्षा वह एक चीज है पढ़ने लिखने में लोगों या विद्यार्थी की क्षमता को बढ़ाती है

अधिकांश जानकारी देखा जाए तो लिखित रूप में होती अगर आपको लिखने या पढ़ने में ही समस्या हो तो आप कैसे कहीं किसी अपनी समस्या को कैसे दूर करेंगे इन शिक्षा की आप अपने जीवन काल में या फिर पूर्ण रूप से किसी भी समय में आप उन समस्या गए गतिविधियों को कैसे दूर करेंगे साथी आजकल यह देखा गया है

कि कितनी कोशिश करने के बाद भी कई जगहों पर रोजगार की समस्या बढ़ती जा रही है शिक्षा के होते हुए भी फिर भी जो शिक्षित है उनको उनके शिक्षा के अनुसार रोजगार नहीं मिला क्योंकि आजकल के युग में शिक्षित के साथ परिपूर्ण रूप से तत्वों की जगह पर या किसी कार्य स्थल पर उस जगह की पूर्ण तकनीकी कुशलता नहीं मिल पाती और ना ही विद्यार्थी ले पा रहे हैं

इसलिए शिक्षा को अपने जीवन में पूर्ण रूप से सुचारू रूप से सभी के साथ संचार के अन्य साधनों में भी सुधार करनी चाहिए शिक्षा व्यक्ति को को बेहतर बनाने के लिए प्रतियोगी रूप से उपयोग करता बनाती है आवश्यक तकनीकी कुशलता ना होने के कारण ही हमारी शिक्षा आधुनिक युग में प्रमुख रूप से इतनी कुशलता नहीं हैI

आधुनिक शिक्षा का महत्व

आधुनिक शिक्षा का महत्व इतना है कि जैसे मान लीजिए दिन प्रतिदिन तेजी से बढ़ता ही जा रहा है अगर हम सुचारू रूप से अपने अपनी शिक्षा का बदलाव नहीं करते हैं तो हम आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का पूर्ण रूप से इस्तेमाल भी नहीं कर पाएंगे क्योंकि बिना बदलाव के हम आधुनिक युग में अपनी कार्यशैली को नहीं बदल सकते

इसके लिए हमें आपने ग्रुप में जिस भी तकनीक कुशलता की आवश्यकता है हमें उसे पूर्ण रूप से सीखना और उसे अपनी शिक्षा का महत्वपूर्ण अंग बनाना होगा तभी हम इस आधुनिक युग में अपनी शिक्षा का प्रमुख रूप से इस्तेमाल या उपयोग में ला सकते हैं

जैसा कि आप देख लीजिए आज के आधुनिक युग के मनुष्य को अपने जीवन में जीने के लिए या अपने अच्छे स्थल को जीवन में पति पालन करने के लिए और बढ़ाने के लिए और अपने शिक्षा के स्तर को उठाने के लिए जिस जिस चीजों की जरूरत है उसे अपनी कार्यशैली में डालना ही पड़ेगा

क्योंकि आज की शिक्षा जीवन को बेहतर बनाने की संभावनाओं से जुड़ी तक की है ना की कार्यशैली को बढ़ाना और डालना ही होगा इसके साथ-साथ आज के आधुनिक युग में शिक्षा के नए रूप में माने जैसे औद्योगिक करण नई तकनीकी कुशलता के युग में ज्ञान के रूप में देना ही होगा अगर हम अपने नई तकनीक कुशलता को नहीं बढ़ावा देते हैं

या बन नहीं देते हैं इसके ना करने पर हम अपने नए आधुनिक युग में व्यवहारिक ज्ञान का प्रकाश नहीं कर पाएंगे इसलिए हमें अपने शिक्षा के साथ-साथ समय में जो आगे बढ़ रहा है और इस आधुनिक युग में जिन चीजों की और कुशलता की आवश्यकता है

हमें अपने बच्चे हैं छात्र के जीवन में उन्हें प्रमुख रूप से बनाना ही होगा क्योंकि आप सभी को पता ही है किस आधुनिक युग में विकसित होने के लिए पूर्ण रूप से सभी का मशीनीकरण या सभी चीजों को मशीन के द्वारा ही किया जा रहा है और इसी कारण वर्ग बेरोजगार की प्रति हो रही है

अगर हम अपने कार्य में या कार्यशैली में परिपूर्ण रूप से आत्मनिर्भर बनकर और अपने कार्यशैली को बढ़ावा नहीं देंगे या अपने शिक्षकों नहीं बनाएंगे तब तक आप इस मशीनीकरण में पीछे रह जाएंगे और इसी कारणवश आज के कई युवा बेरोजगार है

Stri Shiksha ka Mahatva

पुराने युग से लेकर अभी तक कई स्थानों में स्त्रियों के लिए शिक्षा का प्रमाण देखा जाए तो कम है पर यह भी समय के साथ बदलाव के रूपों में बदल रही है जैसा कि आपको पता है कि कल क्षेत्रों में लड़कों से ज्यादा आजकल लड़कियों का योगदान है

और उनको कई क्षेत्रों में अपनी कार्यशैली को बढ़ावा देने के लिए आगे किया जा रहा है ताकि वह भी लड़कों के साथ कदम मिलाकर अपने कार्य शैली में अपने आप को परिपूर्ण रूप से आगे ले आए और देश और समाज के प्रतिष्ठित और अपनी प्रतिष्ठा को सुचारू रूप से बड़ा पाएं और अपने कार्य में सफल हो पाएं लेकिन कई स्थानों में यह भी देखा गया है

कि उनके माता-पिता लड़कों को ज्यादा ही बढ़ावा देते हैं पर अपनी बेटियों को नहीं यह बात हमें अपने समाज में सभी वर्गों के रूप से समझाना चाहिए उन माता-पिता ओं को की शिक्षा का अधिकार सभी को समान है और सब का महत्व अलग अलग है

इसलिए हमें अपनी बेटियों को भी आगे बढ़ाकर शिक्षा का महत्व के बारे में बताना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा हो सके तो उन्हें प्रोत्साहन देना चाहिए ताकि इस समाज में वह भी अपनी कार्यशैली में आगे बढ़ सके और साथी हमारे देश का नाम सभी स्थानों में ऊंचा कर सकें

समाज में शिक्षा का महत्व निबंध

अगर हमें समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना है तो समाज में शिक्षा का महत्व उतना ही महत्वपूर्ण है जैसे हम अपने भोजन और पानी और कपड़ों का ध्यान रखते हैं उसी तरह हमें अपने शिक्षा और ज्ञान को महत्वपूर्ण बनाना ही होगा इसलिए कभी-कभी कई लोगों के द्वारा यह भी कहा जाता है

शिक्षा एक मानव जीवन में या मानव जीवन के काल में एक महत्वपूर्ण है जिसके बिना इंसान या फिर मनुष्य माननी चाहिए जिससे मनुष्य में ज्ञान का प्रचार होता है या फिर प्रसार होता है मनुष्य की बुद्धि का विकास करने के लिए उसे शिक्षा मति पूर्ण ही होना होगा

और उसे संपूर्ण रूप से शिक्षा के प्रति एकत्रित होकर ध्यान पूर्वक ध्यान देना होगा क्या मानव जीवन का वह महत्वपूर्ण पॉइंट है या फिर एक इकाई है जिसके कारण वह समाज में अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना बहुत ही मुश्किल है जीवन में अगर आपको कभी सफलता पाना है

किसी कार्य में सफल हो ना हो या कुछ अलग करके समाज में प्रतिष्ठित बनानी हो तो हमें या फिर आपको जीवन में कभी ना कभी अपने कठिन समय में कई चुनौतियों का सामना करना ही पड़ सकता है आप कहीं भी जाएं कुछ भी करें

या फिर आप किसी बड़े शहर में ही क्यों ना आपको आपकी शिक्षा और क्या है वहां आपको उस पद तक पहुंच जाएगी बिना शिक्षा के आप किसी प्रतिष्ठित जगह में बैठे नहीं सकते क्योंकि बिना शिक्षा आप वहां अपने कृष्ण वाणी किस ज्ञान को दर्शाइए कि आप उस प्रतिष्ठित जगह पर अपनी महत्वपूर्ण था दिखा पाए

लेकिन आपने कई गांव के क्षेत्रों में सोचा सुना ही होगा कि जो छोटी उम्र में ही शिक्षा को पूर्ण रूप से ना कर पाते या वंचित ही रह जाते हैं कहीं-कहीं तो यह भी देखा गया है हमारे भारतवर्ष के कई गांव क्षेत्र में के शिक्षक को महत्व बढ़ा देना यह देने के लिए सरकार कई सरकारी द्वारा बहुत से जागरूकता अभियान को हमेशा बनाया यह चलाया जाता है

पर समाज के सभी व्यक्तियों में समान भावना नहीं होती फिर भी सरकार द्वारा भावना लाती है और बिना और सरकार को यह भी पता है कि कि मैं शिक्षा के किसी भी समाज की प्रकृति नहीं सकती ना भावना ला सकती देश को विकास और प्रगति के रूप में बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक स्थान में भारत के सभी गांवों में शिक्षा का निर्माण करना पड़ेगा तभी शिक्षा का निर्माण हो पाएगा

Leave a Comment